Category Archive : khati badi

How To Become A Successful Farmer

हेलो दोस्तो आशा करता हूं कि आप सब एकदम अच्छे होंगे आज का टाइटल देखकर,

आपके मन में एक विचार उजागर हो रहा होगा,

कि हम पहले से ही किसान है परंतु यह हमें एक successful farmer बनने को क्यों कह रहा है।

आपकी समस्या का समाधान भी मैं इस पोस्ट,

में आगे करने वाला हूं। बहुत से ऐसे किसान भाई हैं

जिन्हें खेती के बारे में पुनीत ज्ञान प्राप्त नहीं है। जिस कारण कि वह,

फसल से अच्छी पैदावार नहीं ले सकते हैं बहुत से ऐसे किसान भाई है

जिनको फसल बोने का सही समय और,

फसल बोने के अनुकूलित मौसम का ज्ञान नहीं होता है

जिस कारण कि उन्हें फसल से अच्छी पैदावार नहीं मिल पाती है और बहुत ,

चिंतित रहते हैं। आज हम इस पोस्ट में Right time to sow the crop,

Right season to sow, Time to irrigate the crop आदि के बारे में चर्चा करेंगे।

Right Time To Sow The Crop-Successful Farmer

  • जैसा कि पता ही होगा भारत के अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग प्रकार की फसलें बोई जाती है
  • फसलें बोने के लिए मानसून का उचित होना बहुत आवश्यक है
  • क्योंकि यदि हम कोई ऐसी फसल की बुवाई करते हैं जो कि हमारे क्षेत्र,
  • के मौसम के अनुकूल नहीं हैं तो वह हमारी के लिए घाटे का सौदा हो सकता है।
  • और हमें बहुत बड़ा नुकसान हो सकता है इसलिए आपके क्षेत्र में जो भी फसल की बुवाई की जाती है
  • उसकी बुआई करने से पहले आपको उसके बारे में पूरी जानकारी,
  • होना बहुत आवश्यक है। तभी हम successful farmer बन सकते हैं।

Right Season To Sow

  • फसल की बुवाई करने का सबसे महत्वपूर्ण पड़ाव होता है उसकी मौसम के बारे में जानकारी होना,
  • और जो हम फसल बो रहे हैं उसके अनुकूल मौसम रहना मौसम हमारे फसल के पौधे को वर्दी करवाने में महत्वपूर्ण योगदान देता है
  • यदि उसके विपरीत मौसम होता है तो वह हमारी फसल के लिए बहुत हानिकारक हो सकता है
  • परंतु इसके साथ ही अगर मौसम हमारी फसल के अनुकूल है तो हमें बहुत अच्छी पैदावार देखने को मिलेगी।

Time To Irrigate The Crop

और इसके बाद हमारा अंतिम पड़ाव आता है फसल में पानी देने का यदि हम सुचारू रूप से अपनी फसल में पानी नहीं देंगे ,

तो हमारी फसल पैदावार भी बहुत कम होगी और हमारी मिट्टी की और,

अस्मिता भी लगातार करते जाएगी इसलिए हमें अपनी फसल को पानी देना बहुत आवश्यक है।

सिंचाई देने की भी बहुत सारी भी दिया है जैसे की एंट्री विधि हो गई इसमें भी बहुत सारी विधियां आपको देखने को मिल जाएगी,

ज्यादा जानकारी के लिए आप यूट्यूब पर जाकर सर्च कर सकते हैं।

अगर आपकी धान की फसल है तो आपको उसमें लगातार पानी देना होगा यदि आप बाजरे की खेती करतो आपको उसमें दो से तीन बार ही ,

पानी देना होगा क्योंकि बाजरे की खेती बिना पानी वाले क्षेत्रों में की जाती है

इसके साथ बहुत सारी फसलें हैं मैं देखने को मिल जाएगी उनमें से कुछ ऐसी होती है

दिन को पानी की बहुत आवश्यकता होती है जिसमें कि में पैदावार भी,

बहुत अच्छी देखने को मिलती है तथा उनमें कुछ ऐसी भी फसलें होती है जिनमें पानी की आवश्यकता नहीं,

होती परंतु उनमे हमें मुनाफा भी बहुत कम होता है इन सभी की पूरी जानकरी हमे मिल जाती है।

तो हम एक successful farmer बन सकते है।

How to prepare organic manure at home

किसान भाइयों आज हम बात करने वाले हैं कि हम जैविक खाद को घर पर किस तरह से बना सकते हैं जैविक खाद को घर पर तैयार करने के निम्नलिखित फायदे हैं सबसे पहला फायदा तो यह है कि यदि हम जैविक खाद को घर पर बनाते हैं तो यह सबसे कम खर्चीला होता है और दूसरा फायदा यह है कि इसमें सभी आवश्यक पोषक तत्व विद्यमान होते हैं। जो कि हमारी फसल के पौधे को सहायता प्रदान करता है जिससे कि पौधा की पैदावार बहुत अधिक होती है। आज हम यही चर्चा करेंगे कि हम जैविक खाद घर पर कैसे बना सकते हैं जैविक खाद के भी बहुत प्रकार होते हैं उनमें से कुछ प्रकारों पर हम अभी चर्चा करने वाले हैं तो कौन-कौन से वह तरीके है जिसके माध्यम से हम जैविक खाद बना सकते हैं चलिए सीखते हैं।

Cow dung

आज के वर्तमान युग में गोबर खाद हमारी जमीन के लिए बहुत आवश्यक है आपको तो पता ही होगा कि हम खेती के साथ-साथ पशुपालन भी करते हैं पशु गोबर के रूप में अपना अपशिष्ट पदार्थ बाहर निकालते हैं। जिसमें कि बहुत सारे पोषक तत्व विद्वान होते हैं और यह है हमारी जमीन की ओर क्षमता को बहुत अधिक बढ़ा देता है और इसका कोई भी नुकसान भी नहीं है जिससे कि हम बिना डरे गोबर खाद को अपनी जमीन में बहुत ही आसानी से छिड़क सकते हैं। इसके अलावा भी बहुत सारी खाद आपको देखने को मिल जाएगी जैसे मुर्गा की खाद आदि यह सभी खाद पौधे को सहायता प्रदान करती है।

Earthworm manure

केंचुआ खाद के बारे में तो आप सभी लोगों ने कहीं ना कहीं तो जरूर सुना होगा जैसा कि हमारे हिंदी में एक कहावत है कि केंचुआ किसान का मित्र होता है इसका तात्पर्य यह है कि केंचुए से बनी खाद को यदि हम अपने खेत में डालते हैं तो हमारी खेत की उम्र क्षमता दोगुनी से बहुत ज्यादा हो जाती है जिससे कि हमारी फसल भी अच्छी होती है तथा हमें उसमें पैदावार पर बहुत अच्छी देखने को मिलती है। केंचुआ खाद को आप घर पर भी तैयार कर सकते हैं और बाजार से भी खरीद सकते हैं परंतु मेरा यही कहना है कि यदि आपके केंचुआ की खाद को घर पर तैयार करते हैं। तो यह सबसे फायदेमंद रहेगी क्योंकि हम उसे अपने हिसाब से घर पर तैयार कर सकते हैं तो उसमें सभी पदार्थों की मात्रा को सही रूप से खाद में मिला सकते हैं। जो कि हमारी भूमि की पैदावार बढ़ाने में बहुत सहयोग करेगा।

Pesticide manure

जैसा कि आपने बहुत बार देखा होगा कि हमारी फसल पर बहुत सारे कीड़े मकोड़े आते हैं जिससे कि हमारी फसल नष्ट हो जाती है इसकी समाधान के लिए आप कीटनाशक हाथ को घर पर बहुत ही आसानी से तैयार कर सकते हैं इसको तैयार करने के लिए आपको पहले एक बड़ा सा ड्रम लेना पड़ेगा उसको आधा पानी से पढ़ लीजिए उसमें पानी डालने के बाद आपको 5 किलो गुड़ उस में डाल देना है और उसे अच्छी तरह से पानी के अंदर बोल देना है उसके बाद आपको इसमें लोहे को डाल देना है जीससे की उसमें पूर्ण रूप से पोषक तत्व मिल जाए तथा उसके बाद आप जब खेत में पानी देवों के उस समय आप को पानी में इसे अपने हिसाब से मिला देना है इसे सबसे बड़ा यह फायदा होगा कि कि जो हमारा खरपतवार है वह भी कीड़े मकोड़ों के साथ नष्ट हो जाएगा क्योंकि इसमें ऐसे पोषक तत्व मिले हुए हैं जो कि खरपतवार को गलाने का काम करते हैं यह मुझे सबसे अच्छा लगा क्योंकि यदि हम खरपतवार को बुलाने के लिए रासायनिक पदार्थों का प्रयोग करते हैं तो वह हमारी भूमि की ओर क्षमता को कम करता है और जो उपाय मैंने आपको बताया मैं खरपतवार को तो नष्ट करेगा ही साथ में हमारी भूमि की उर्वरता क्षमता को भी बढ़ा देगा। तुझे भी खास को घर पर बनाने के बहुत सारे फायदे हैं आशा करता हूं कि आपको यह सभी बहुत अच्छी तरह से समझ में आ गए होंगे। आप बहुत कम खर्चे में घर पर तैयार कर सकते हैं। इसके अलावा भी बहुत सारे विधि आपको देखने को मिल जाएगी। जिससे कि आप घर पर खाद तैयार कर सकते हैं।

What To Do For A Good Crop Yield

किसान भाइयों आज की पोस्ट के अंदर हम चर्चा करेंगे कि हम किस प्रकार फसल की पैदावार को बढ़ा सकते हैं व दोगुना मुनाफा कमा सकते हैं। जैसा की आप सभी को पता ही होगा कि अलग-अलग स्थानों पर मौसम के आधार पर अलग-अलग फसलों की बुआई होती है। वह कुछ स्थानों पर मौसम अनुकूल न होने के कारण उस क्षेत्र की फसलें खराब हो जाती है जिससे कि किसानों को बड़ा घाटा होता है। आज हम चर्चा करेंगे कि किस प्रकार फसल को खराब होने से रोक सकते हैं उसके लिए हमें किन-किन तरीकों का प्रयोग करना है मैं किस प्रकार हमें दोगुना मुनाफा मिलेगा आदि यह सभी बातें हम आज इस पोस्ट में चर्चा करने वाले हैं।

Seasonal sowing

जैसा कि आप सभी को मैंने पहले ही बता दिया की अलग-अलग स्थानों पर मौसम के आधार पर फसलों की बुवाई की जाती है हमारा सबसे पहला कदम यही रहेगा हमें मौसम के अनुकूल ऐसी फसलों को बोना है। क्योंकि मौसम के कारण खराब ना हो व उसके अनुकूल हो इसमें निम्नलिखित फसलें आ जाती है जैसे रवि की फसल खरीफ की फसल जायद की फसल आदि कुछ ऐसी फसलें हैं जिन्हें वर्ष में एक बार मौसम के आधार पर ही बुवाई की जाती है।

Proper sowing

मौसम के आधार पर फसल का चयन करने के बाद हमें उस फसल को उगाने के लिए पहले जमीन की बहुत ही अच्छी तरह से बुवाई करनी पड़ेगी पूरी अच्छी तरह से बुवाई किस प्रकार की जाती है इस पर मैंने पहले एक पोस्ट डाल रखी है आप चाहे तो पिछली पोस्ट में जाकर देख सकते हैं। फसलों की बुवाई करने के लिए जमीन को हल्की करनी पड़ती है तथा उसके बाद उसके ऊपर सुहागा फेरकर आप बहुत ही आसानी से फसलों की बुवाई कर सकते हो यह हमारा दूसरा स्टेप था।

Watering Regular Crops

फसलों की बुआई करने के बाद सबसे महत्वपूर्ण काम आता है फसलों को पानी देना यदि हमें नियमित रूप से वह सही समय पर फसलों को पानी नहीं देंगे।तो हमारी फसल की पैदावार में कमी हो सकती है या फिर हमारी फसल पूरी तरह से नष्ट भी हो सकती है इसलिए फसलों को पानी देना बहुत आवश्यक है जिससे कि वह अपनी पोषण क्षमता बहुत ही आसानी से पूरी कर सके।

Using organic manure

जैसा की आप सभी लोगों को पता ही है कि फसल की पैदावार को बढ़ाने के लिए हम सब लोग फसलों में जैविक खादों का प्रयोग करते है। जिससे कि फसल के पौधे जल्दी ही क्रोध करने लगे और उसमें पैदावार भी बहुत अधिक हो हमें भी वही तरीका जमाना है हमें अपनी फसल में जैविक खातों का ही प्रयोग करना है जिससे कि हमारी हमारी जमीन पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा हमारी फसल की पैदावार भी बहुत अधिक होगी

Weed out regularly

खरपतवार को अपने खेतों से निकालना बहुत आवश्यक है क्योंकि आप सभी किसान भाइयों को तो पता ही होगा कि अगर हम खरपतवार को अपने खेत से नहीं निकालेंगे तो यह हमारी फसलों की ग्रोथ को रोक देता है। जिससे कि हमारी फसल उपज में कमी आती है। याद रखें कि आपको खरपतवार को अपने हाथों से ही निकालना है। खरपतवार को निकालने के लिए आपको किसी कीटनाशक का प्रयोग नहीं करना है क्योंकि कीटनाशक के प्रयोग से हमारी जमीन की वर्दी में कमी आती है वह धीरे-धीरे हमारे खेतों में फसलों की उपज बहुत कम हो जाती है। इसलिए आपको कीटनाशक का प्रयोग नहीं करना है।

Full time harvesting of crops

जब आप की फसल पूर्ण रूप से पकड़ जाए तभी आप उसकी कटाई कर लीजिए क्योंकि समय से पहले यदि हम फसलों की कटाई कर लेते हैं तो हमारी उपज में बहुत फर्क पड़ता है। वह हमारी प्रति एकड़ उपज क्षमता भी बहुत कम हो जाती है क्योंकि फसल पूर्ण रूप से पकी हुई नहीं होती है जिस कारण हमारी फसलों में वजन बहुत कम देखने को मिलता है।

Fair price for crops

फसलों की पूर्ण रूप से कटाई करने के बाद अब बारी आती है हमारी फसलों को उचित दामों पर मंडियों में भेजने की आप अपनी फसल को मंडियों में बहुत ही आसानी से भेज सकते हो परंतु आपको अपनी फसल को मंडियों में बेचने से पहले कुछ बातों का विशेष तौर से ध्यान रखना है आपको यह अच्छी तरह से पता कर लेना है कि फसल का मंडी में क्या भाव चल रहा है वह कितने रुपए प्रति कुंतल के हिसाब से फसलें बिक रही है आदि इन सभी बातों का आपको बहुत ही खास तौर से ध्यान रखना है।

Important means of tillage

आज की पोस्ट किसान भाइयों के लिए बहुत ही खास होने वाली है क्योंकि हम इस पोस्ट में खेतीबाड़ी से झूठी सबसे महत्वपूर्ण बात करने वाले हैं आज की इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा की खेत की जुताई किस प्रकार की जाती है जिससे कि हमें ज्यादा से ज्यादा मुनाफा हो और हमारी फसल की पैदावार भी बहुत अधिक हो कुछ किसान भाई ऐसे हैं जो कि किराए पर खेत की जुताई करवाते हैं परंतु जुताई करने वाला उनके खेत की पूरी अच्छी तरह से जुताई नहीं कर पाता है जिससे कि हमें फसल की पैदावार भी बहुत कम देखने को मिलती है। तुम किस प्रकार आपको अपने खेत की जुताई अच्छी तरह से करवानी है आइए उसके बारे में हम मिलकर थोड़ी चर्चा करें।

Main plowing equipment

जैसा की आप सभी को पता ही होगा वर्तमान में खेत की जुताई करने के बहुत सारे यंत्र उपलब्ध है जिसका प्रयोग करके हम बहुत ही आसानी से अपने खेत की जुताई कर सकते हैं परंतु बहुत सारे ऐसे किसान भाई है जो कि उन यंत्र को खरीदने में असमर्थ है मैं आज आपको कुछ ऐसे यंत्र के बारे में बताने वाला हूं जो कि आपको बहुत ही सस्ते प्राइस में मिल जाएंगे और उनका यूज़ करके आप बहुत ही आसानी से अपने खेत की जुताई कर सकते हैं जो यंत्र मैं आपको बताने जा रहा हूं वह लगभग हर काम में उपयोग में लिए जाते है।

Tractor– जैसे आप लोगों को तो पता ही होगा कि खेतीबाड़ी से जुड़े हर क्षेत्र में ट्रैक्टर की आवश्यकता पड़ती है क्योंकि ट्रैक्टर के बिना हम अपने खेत की जुताई भी नहीं कर सकते हैं अपनी फसल को मंडी तक भी नहीं लेकर जा सकते हैंसामान्य तौर पर यह कहा जा सकता है कि अगर ट्रैक्टर नहीं होता तो खेती करना बहुत मुश्किल होता ट्रैक्टर के द्वारा खेती करने आसान हो गई है जिससे कि हम बहुत ही अच्छी तरह से अपनी जमीन की बुवाई कर सकते हैं अच्छी पैदावार ले सकते हैं।वह बहुत ही आसानी से अपने खेत से कचरे को भी हटा सकते हैं। इसके लिए आपके पास टैक्टर का होना बहुत आवश्यक है।

Cultivator-कल्टीवेटर का उपयोग लगभग सभी प्रकार की जुताई में उपयोग में लिए जाते हैं। यह सबसे महत्वपूर्ण यंत्र है। इसका उपयोग का बहुत ही आसानी से कर सकते हैं। इससे जुताई करने के लिए आपको इसे ट्रैक्टर के पीछे जोड़ना पड़ेगा वह उसके बाद इसको जमीन के 7 से 8 इंच अंदर तक चलाना है जिससे कि हमारी फसल की जड़ें बहुत नीचे तक जाएं जिससे कि पौधे की ग्रोथ बड़े वह हमें ऊपर ज्यादा मिले यह सबसे महत्वपूर्ण यंत्र है आप इसको बहुत ही आसानी से अपने आसपास के मिस्त्री मार्केट में जाकर बहुत ही आसानी से खरीद सकते हैं।

Suhaga-सुहागे का उपयोग कल्टीवेटर फेरने के बाद किया जाता है यह जमीन को समतल बना देता है जिससे कि हम अपनी फसल की बुवाई बहुत ही आराम से कर सकते हैं यह भी बहुत ही सस्ते प्राइस में आपको मिस्त्री मार्केट में मिल जाएगा।

Rutavator-रोटावेटर का उपयोग कचरे की बुटाई के लिए किया जाता है यदि आप के खेत में कचरा बहुत अच्छा था होता है और कचर्य के कारण ही आती है आपकोजमीन की बुवाई करने में दिक्कत होती है तो आप रोटावेटर खरीद कर उस कचरे की। बहुत ही आसानी से बुवाई कर सकते हैं।

How to sow

  • अब बारी आती है हमारे मेन टॉपिक है कि हम अपनी जमीन की बुवाई कैसे करें आपके पास यदि रोटावेटर है
  • तो आपको अपने खेत में रोटावेटर से कचरे की बुराई करनी है जब कचरा एकदम साफ हो जाए तब आपको उस पर कल्टीवेटर से बुवाई करनी है कल्टीवेटर आपको हल्के हल्के ही लगाने हैं उसके बाद आपको सौभाग्य का प्रयोग करके अपने जमीन को एकदम बिजाई के लिए तैयार करना है तथा उसके बाद आप अपने हिसाब से,
  • उसमें जो भी पिचाई करना चाहते हैं वह बहुत ही आसानी से कर सकते हैं।
    यह यंत्र उन किसान भाइयों के लिए है। जो रवि और खरीफ की फसलों को उगाते हैं इसके अलावा और भी बहुत सारी फसल है। जैसे आलू की खेती करना गन्ने की खेती करना तो आपको,
  • पता ही होगा अलग-अलग फसलों की बुआई के लिए अलग-अलग यंत्रों का प्रयोग किया जाता है।
  • आपके यहां जिस की भी खेती होती है उसके अनुसार आप जमीन की बुवाई कर के अच्छे पैदावार ले सकते हैं।

How to buy tractor-my steps

हेलो दोस्तों तो कैसे हैं आप सब आशा करता हूं कि आप सब एकदम अच्छे होंगे आज का हमारा टॉपिक होने वाला है कि हम एक ट्रैक्टर को कैसे खरीद सकते हैं जो कि हमारे सभी कार्यों में काम आए और हम बहुत ही आसानी से अपना सभी कार्य कर सकें यह पोस्ट खासतौर से किसानों के लिए है बहुत से ऐसे किसान भाई है जो ट्रैक्टर खरीदना चाहते हैं परंतु उन्हें यह नहीं पता होता कि हमें कौन सा ट्रैक्टर लेना चाहिए। जो कि हमारे बजट के अनुसार हो और अपने कार्यों को भी बहुत ही आसानी से कर सकें। इसके लिए निम्नलिखित शर्ते हैं चलिए उन पर हम थोड़ी चर्चा करते हैं।

jameen ki buvai ke anusar

दोस्तों यह ट्रैक्टर खरीदने में बहुत महत्वपूर्ण है हमें छोटी से छोटी बात को ध्यान में रखना होता है जिसके द्वारा हम एक अच्छा सा ट्रैक्टर खरीद सकते हैं। दोस्तों अगर आपका खेत बहुत बड़ा है या फिर आप जमीन को ठेके पर लेकर बुवाई करते हैं तो आपको 45 से 50 हॉर्स पावर का ट्रैक्टर ही लेना है जो कि आपके काम को बहुत ही आसानी से करने में सक्षम हो और उसकी डीजल खपत क्षमता भी बहुत कम हो जिससे कि आप बहुत ही आसानी से अपने सभी कार्य कर सकते हैं। आप ट्रैक्टर नया ले सकते हैं और सेकंड हैंड ट्रैक्टर भी आपको बहुत ही आसानी से बहुत सारी कंपनी के देखने को मिल जाएंगे जिन्हें आप बहुत ही सस्ते प्राइस में खरीद सकते हैं।

35-40 Houspower tractor

दोस्तों यदि आप 5 से 10 बीघा जमीन की बुवाई करते हैं तो आपके लिए 35 से 40 हॉर्स पावर का ट्रैक्टर सबसे अच्छा रहता है जो कि आपको बहुत ही आसानी से कम प्राइस में देखने को मिल जाएगा और आप उसे बहुत ही आसानी से खरीद भी सकते हैं और अपनी जमीन की बुवाई भी कर सकते हैं इसके लिए आप महिंद्रा 265 खरीद सकते हैं जिसकी डीजल खर्चा बहुत ही कम है और इसमें हॉर्स पावर भी आपको बहुत अच्छे देखने को मिल जाएंगे जिससे कि आप अपने घर की बुवाई को बहुत ही आसानी से पूरा कर सकते हैं यह टैक्टर आपको छोटे बड़े कार्यों में काम आ जाते हैं जो कि एक किसान के लिए सबसे अच्छी बात है।इसके लिए आप नया ट्रैक्टर खरीदना चाहते हैं तो आप कंपनी से नया ट्रैक्टर भी ले सकते हैं नहीं तो आपको सेकेंड हैंड ट्रैक्टर भी बहुत ही सस्ते प्राइस में देखने को मिल जाएगा।

40-45 Houspower tractor

यदि आप अभी से 30 बीघा जमीन की बुवाई करते हैं तो आपके लिए 40 से 45 हॉर्स पावर का ट्रैक्टर बहुत ही अच्छा रहेगा जो कि आप के सभी कार्य भी आसान करेगा ही साथ में आप बहुत ही जल्द सभी कार्य कर सकते हैं। एशिया अपने आप भी खरीद सकते हैं और पुराना भी खरीद सकते हैं दोनों पेरेंट्स में है आपको देखने को मिल जाएगा।

buy some condition

आपको टाइगर खरीदने से पहले निमन सावधानियों को ध्यान में रखना होगा आप अगर नया ट्रैक्टर खरीदते हैं तो सबसे अच्छी बात है उसमें आपको कोई भी एक खराबी देखने को नहीं मिलेगी यदि आपको कोई भी खराब ही देखने को मिलती है तो आप कंपनी वालों से कह कर बहुत ही आसानी से उसे फ्री में ठीक करवा सकते हैं क्योंकि हम जब भी नया ट्रैक्टर खरीदते हैं तब हमें 2 साल की वारंटी दी जाती है 2 साल के अंदर यदि हमारे ट्रैक्टर में कोई भी खराबी होती है तो उसे कंपनी खुद ठीक करके देती है। परंतु यदि हम पुराना ट्रैक्टर खरीदने हैं तब हमें कुछ सावधानियां बरतनी होती है। जिसके आधार पर हम बहुत ही आसानी से हमारे उपयोग के आधार पर एक ट्रैक्टर को खरीद सकते हैं पुराना ट्रैक्टर खरीदते समय आपको हमेशा ध्यान में रखना है कि उसमें कोई भी खराबी ना हो उसे आपको पूरी अच्छी तरह से पढ़ना है आप चाहे तो उसे एक बार चला कर भी देख सकते हैं और उसके इंजन पंप गेयर आधे को पूरी अच्छी तरह से चेक करना है।तथा आपको टैक्टर जिस बजट का लगता है आपको उतने ही  में वह ट्रैक्टर खरीदना है जिससे कि हमें घाटा भी नहीं होना चाहिए और हम अपने कार्य के लिए एक ट्रैक्टर भी खरीद लें तो इन सभी बातों का आपको पूरी अच्छी तरह से सावधानियां रखनी है जिससे कि आप बहुत ही सस्ते प्राइस में अपने लिए एक ट्रैक्टर को खरीद सकते हैं।

How to start a pesticides shop

हम बात करने वाले हैं How to start a pesticides shop के बारे में आज में आपको बताऊंगा कि किस प्रकार पेस्टिसाइड्स की शॉप स्टार्ट कर सकते हैं। और किन किन बातों का विशेष तौर से ध्यान रखना है। और शॉप को स्टार्ट करने से पहले आपको किन किन वैरायटी को अपने शॉप में रखना है। इन सभी का विवरण आज हम इस पोस्ट में करने वाले है। तो चलिए अब हम लोग आगे बढ़ते हैं।

Get experience to start a shop

आपको तो पता ही होगा हम किसी भी कार्य को तभी पूर्ण कर सकते हैं। जब  हमारे पास उस कार्य को करने का अनुभव होता है। आपको भी यही बात अपने दिमाग में रखनी है। और आप अपनी पेस्टिसाइड शॉप को स्टार्ट करने से पहले पेस्टिसाइड्स के बारे में आपको एक्सपीरियंस लेना है। आप चाहे तो पेस्टीसाइड के ट्रेनिंग सेंटर में जाकर वहां से ट्रेनिंग ले सकते हैं। या फिर अपने मित्र भंडार से मिलकर भी उनसे बहुत अच्छी सलाह ले सकते हैं जो कि आपको बाद में बहुत काम आने वाली है याद रहे कि आपको पेस्टिसाइड की शॉप उसी स्थान पर करनी है जहां पर किसान ज्यादा संख्या में एकत्रित होते हैं जो कि सामान्य तौर पर धान मंडी में किसान बहुत ज्यादा एकत्रित होते है तो आपको धान मंडी या उसके आसपास वाली जगह पर ही अपनी पेस्टिसाइड शॉप को स्टार्ट कर दिया आपकी शायरी कि अधिक बिक्री हो और आप हो मुनाफा कमा सकें। इसके अतिरिक्त आप पार्टनरशिप के द्वारा भी पेस्टिसाइड सॉन्ग को स्टार्ट कर सकते हैं जिससे कि आपको कार्य को संभालने में आसानी हो और आपकी सोच बहुत अच्छी तरीके से चलती रहे हैं।

best deal for company

आपको कंपनी वालों से बहुत अच्छी दिन करनी होंगे याद रहे आप हमेशा किसानों को बहुत ही सस्ते दामों में बहुत ही अच्छी क्वालिटी की दवाइयां है प्रदान करें जिससे की चादर आपकी शॉप की तरफ अट्रैक्टिव हो और आपकी शान गिरी प्रतीक दिखे आप एक सकारात्मक सोच को लेकर आपको कार्य करना है आपको बहुत ही जल्द इसमें रिजल्ट देखने को मिल जाएगा इसके साथ ही आप उधार खाता आदि को भी साथ में चालू रखिए यदि आपकी जॉब नहीं है तो शुरुआत में आप बहुत ही कम लोगों को उधार प्रदान करें उन लोगों को उधार तभी प्रदान करें जब किसी सलाहकार ने आपको उधार डालने के लिए कहा है। यह उसके चरित्र को दर्शाता है। इन सभी बातों का आपको विशेष तौर से ध्यान रखना है और उसके बहुत और अपने अशोक को बहुत ही आसानी से स्टार्ट कर सकते हो स्टार्ट करने के बाद भी आपको बहुत सारी बातों को ध्यान में रखना है।

store useful items

आपको अपनी दुकान में सबसे ज्यादा यूज होने वाली सामान ही रखना है। चाहे वो कीटनाशक हो रसायनिक पदार्थ हो या फिर जैविक खाद हो आपको हमेशा अच्छी क्वालिटी की ही चीजें अपने शॉप में रखना है। जिनका प्राइस भी बहुत कम हो। इससे क्या होगा कि बहुत सारे लोग आपकी शॉप की तरफ अट्रैक्टिव होंगे जिससे आपको बहुत ज्यादा मुनाफा होगा आपको पूरी मेहनत और लगन के साथ अपने कार्य में ध्यान देना है। अपनी दुकान को स्टार्ट करने के लिए आपको निबंध श्याम गिरी की आवश्यकता पड़ेगी।
1. दवाइयां-आपको अपने दुकान में खेतीबाड़ी से संबंधित सभी प्रकार की दवाइयों को अपनी दुकान में स्टोर करना है। वह आपके पास हर प्रकार की दवाई का स्टॉक होना बहुत आवश्यक है। जिससे कि किसान को भटकना न पड़े और उसे दवाइयां बहुत ही आसानी से उपलब्ध हो जाए। खेतीबाड़ी से संबंधित बहुत सारी दवाइयां आती है जो कि अलग-अलग कंपनी की होती है आपको हाई अथॉरिटी वाली कंपनी से ही सामान मंगवाना है तथा उनकी ही दवाइयों को अपनी दुकान पर रखना है।
2. रासायनिक खाद-आपको अपने दुकान में रसायनिक खाद को स्टॉक करके रखना है रसायनिक हाथ में आपको यूरिया डीएपी पोटाश फास्फेट सोडियम आदि इन सभी को पूर्ण रूप से स्टॉक करना है इसके लिए आप अलग से गोदाम की व्यवस्था भी कर सकते हैं।
3.-जैविक खाद-आपको अपनी दुकान पर जैविक खाद से संबंधित सामान भी रखना है क्योंकि कुछ ऐसे किसान होते हैं जो कि अपनी फसल में रसायनिक उपकरणों का इस्तेमाल नहीं करते हैं वह जैविक खेती करते हैं तथा जैविक खेती से संबंधित सभी श्याम गिरी को आपको अपनी दुकान में स्टॉक करके रखना है।