Tag Archive : farmer

Important means of tillage

आज की पोस्ट किसान भाइयों के लिए बहुत ही खास होने वाली है क्योंकि हम इस पोस्ट में खेतीबाड़ी से झूठी सबसे महत्वपूर्ण बात करने वाले हैं आज की इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा की खेत की जुताई किस प्रकार की जाती है जिससे कि हमें ज्यादा से ज्यादा मुनाफा हो और हमारी फसल की पैदावार भी बहुत अधिक हो कुछ किसान भाई ऐसे हैं जो कि किराए पर खेत की जुताई करवाते हैं परंतु जुताई करने वाला उनके खेत की पूरी अच्छी तरह से जुताई नहीं कर पाता है जिससे कि हमें फसल की पैदावार भी बहुत कम देखने को मिलती है। तुम किस प्रकार आपको अपने खेत की जुताई अच्छी तरह से करवानी है आइए उसके बारे में हम मिलकर थोड़ी चर्चा करें।

Main plowing equipment

जैसा की आप सभी को पता ही होगा वर्तमान में खेत की जुताई करने के बहुत सारे यंत्र उपलब्ध है जिसका प्रयोग करके हम बहुत ही आसानी से अपने खेत की जुताई कर सकते हैं परंतु बहुत सारे ऐसे किसान भाई है जो कि उन यंत्र को खरीदने में असमर्थ है मैं आज आपको कुछ ऐसे यंत्र के बारे में बताने वाला हूं जो कि आपको बहुत ही सस्ते प्राइस में मिल जाएंगे और उनका यूज़ करके आप बहुत ही आसानी से अपने खेत की जुताई कर सकते हैं जो यंत्र मैं आपको बताने जा रहा हूं वह लगभग हर काम में उपयोग में लिए जाते है।

Tractor– जैसे आप लोगों को तो पता ही होगा कि खेतीबाड़ी से जुड़े हर क्षेत्र में ट्रैक्टर की आवश्यकता पड़ती है क्योंकि ट्रैक्टर के बिना हम अपने खेत की जुताई भी नहीं कर सकते हैं अपनी फसल को मंडी तक भी नहीं लेकर जा सकते हैंसामान्य तौर पर यह कहा जा सकता है कि अगर ट्रैक्टर नहीं होता तो खेती करना बहुत मुश्किल होता ट्रैक्टर के द्वारा खेती करने आसान हो गई है जिससे कि हम बहुत ही अच्छी तरह से अपनी जमीन की बुवाई कर सकते हैं अच्छी पैदावार ले सकते हैं।वह बहुत ही आसानी से अपने खेत से कचरे को भी हटा सकते हैं। इसके लिए आपके पास टैक्टर का होना बहुत आवश्यक है।

Cultivator-कल्टीवेटर का उपयोग लगभग सभी प्रकार की जुताई में उपयोग में लिए जाते हैं। यह सबसे महत्वपूर्ण यंत्र है। इसका उपयोग का बहुत ही आसानी से कर सकते हैं। इससे जुताई करने के लिए आपको इसे ट्रैक्टर के पीछे जोड़ना पड़ेगा वह उसके बाद इसको जमीन के 7 से 8 इंच अंदर तक चलाना है जिससे कि हमारी फसल की जड़ें बहुत नीचे तक जाएं जिससे कि पौधे की ग्रोथ बड़े वह हमें ऊपर ज्यादा मिले यह सबसे महत्वपूर्ण यंत्र है आप इसको बहुत ही आसानी से अपने आसपास के मिस्त्री मार्केट में जाकर बहुत ही आसानी से खरीद सकते हैं।

Suhaga-सुहागे का उपयोग कल्टीवेटर फेरने के बाद किया जाता है यह जमीन को समतल बना देता है जिससे कि हम अपनी फसल की बुवाई बहुत ही आराम से कर सकते हैं यह भी बहुत ही सस्ते प्राइस में आपको मिस्त्री मार्केट में मिल जाएगा।

Rutavator-रोटावेटर का उपयोग कचरे की बुटाई के लिए किया जाता है यदि आप के खेत में कचरा बहुत अच्छा था होता है और कचर्य के कारण ही आती है आपकोजमीन की बुवाई करने में दिक्कत होती है तो आप रोटावेटर खरीद कर उस कचरे की। बहुत ही आसानी से बुवाई कर सकते हैं।

How to sow

  • अब बारी आती है हमारे मेन टॉपिक है कि हम अपनी जमीन की बुवाई कैसे करें आपके पास यदि रोटावेटर है
  • तो आपको अपने खेत में रोटावेटर से कचरे की बुराई करनी है जब कचरा एकदम साफ हो जाए तब आपको उस पर कल्टीवेटर से बुवाई करनी है कल्टीवेटर आपको हल्के हल्के ही लगाने हैं उसके बाद आपको सौभाग्य का प्रयोग करके अपने जमीन को एकदम बिजाई के लिए तैयार करना है तथा उसके बाद आप अपने हिसाब से,
  • उसमें जो भी पिचाई करना चाहते हैं वह बहुत ही आसानी से कर सकते हैं।
    यह यंत्र उन किसान भाइयों के लिए है। जो रवि और खरीफ की फसलों को उगाते हैं इसके अलावा और भी बहुत सारी फसल है। जैसे आलू की खेती करना गन्ने की खेती करना तो आपको,
  • पता ही होगा अलग-अलग फसलों की बुआई के लिए अलग-अलग यंत्रों का प्रयोग किया जाता है।
  • आपके यहां जिस की भी खेती होती है उसके अनुसार आप जमीन की बुवाई कर के अच्छे पैदावार ले सकते हैं।